दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
वो बर्फ पे चलते है हम आग पे चलते है
वो बर्फ पे चलते है हम आग पे चलते है

एहसास की शिकस्त से कुच्छ ाश्क़ निकलते है
ज़िंदगी है और दिल आए नादान है
क्या सफ़र है और क्या समान है
ज़िंदगी है और दिल आए नादान है
क्या सफ़र है और क्या समान है
मेरे गामो को भी समझ कर देखिए
मुस्कुरा देना बहुत आसान है
एहसास की शिकस्त से कुच्छ ाश्क़ निकलते है
एहसास की शिकस्त से कुच्छ ाश्क़ निकलते है
ये बर्फ के टुकड़े है गर्मी से पिघलते है
ये बर्फ के टुकड़े है गर्मी से पिघलते है

एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन
एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन
एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन
तुम्हारे घर दरवाज़ा है लेकिन
तुम्हारे घर दरवाज़ा है लेकिन
तुम्हे ख़तरे का अंदाज़ा नही है
तुम्हारे घर दरवाज़ा है लेकिन
तुम्हे ख़तरे का अंदाज़ा नही है
हमे ख़तरे का अंदाज़ा है लेकिन
हमारे घर मे दरवाज़ा  नही है
एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन

मेरे काम का है ना दुनिया के काम का
मेरे काम का है ना दुनिया के काम का
अरे दिल ही तुम्हे खुदा ने दिया दस ग्राम का
एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन
एक रात ठहर जाए हम घर मे तेरे लेकिन
च्चत पर ना सुला देना हम नींद मे चलते है
च्चत पर ना सुला देना हम नींद मे चलते है

चोरी की मोहब्बत मे अक्सर यही होता है
चोरी की मोहब्बत मे अक्सर यही होता है
आदमी का है आजकल हाल एक सहमी सी चाह हो जैसे
आदमी का है आजकल हाल एक सहमी सी चाह हो जैसे
और लोग यू च्छूप के प्यार करते है की
प्यार करना गुनाह हो जैसे
चोरी की मोहब्बत मे अक्सर यही होता है

यू तो हँसते हुए लड़को को भी गम होता है
कच्ची उमरो मे मगर तजुर्बा कम होता है
चोरी की मोहब्बत मे अक्सर यही होता है
चोरी की मोहब्बत मे अक्सर यही होता है
दरवाज़े से जाते है
दरवाज़े से जाते है खिड़की से निकलते है
दरवाज़े से जाते है खिड़की से निकलते है
दरवाज़े से जाते है खिड़की से निकलते है

जिस दिन से हुई शादी ये हाल हमारा है
जिस दिन से हुई शादी ये हाल हमारा है
जिस दिन से हुई शादी ये हाल हमारा है
हल्दी से डरते है
हल्दी से डरते है मेहदी से घबराते है
हल्दी से डरते है मेहदी से घारते है
उम्मीद ए वफ़ा रखे क्या उनसे भला कोई
ना ज़िक्र कीजिए मेरी अदा के बारे मे
और सुना है वो भी मुहब्बत का शौक़ रखने लगे
जिन्हे खबर ही नही वफ़ा के बारे मे
उम्मीद ए वफ़ा रखे

कपड़ो की तरह ना जो चेहरे बदलते है
दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
दोनो ही मोहब्बत के जज़्बात मे जलते है
वो बर्फ पे चलते है हम आग पे चलते है
वो बर्फ पे चलते है हम आग पे चलते है

dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
vo barf pe chalte hai ham aag pe chalte hai
vo barf pe chalte hai ham aag pe chalte hai

ehasas ki shikast se kuchh ashq nikalte hai
zindagi hai aur dil ae nadan hai
kya safar hai aur kya saman hai
zindagi hai aur dil ae nadan hai
kya safar hai aur kya saman hai
mere gamo ko bhi samajh kar dekhiye
muskura dena bahut asan hai
ehasas ki shikast se kuchh ashq nikalte hai
ehasas ki shikast se kuchh ashq nikalte hai
ye barf ke tukade hai garmi se pighalte hai
ye barf ke tukade hai garmi se pighalte hai

ek raat thahar jaye ham ghar me tere lekin
ek raat thahar jaye ham ghar me tere lekin
ek raat thahar jaye ham ghar me tere lekin
tumhare ghar daravaza hai lekin 
tumhare ghar daravaza hai lekin 
tumhe khatre ka andaza nahi hai
tumhare ghar daravaza hai lekin 
tumhe khatre ka andaza nahi hai
hame khatre ka andaza hai lekin 
hamare ghar me daravaza  nahi hai
ek raat thahar jaye ham ghar me tere lekin

mere kaam ka hai na duniya ke kaam ka
mere kaam ka hai na duniya ke kaam ka
are dil hi tumhe khuda ne diya das gram ka
ek raat thahar jaye hum ghar me tere lekin 
ek raat thahar jaye hum ghar me tere lekin 
chhat par na sula dena ham nind me chalte hai
chhat par na sula dena ham nind me chalte hai

chori ki mohabbat me aksar yahi hota hai
chori ki mohabbat me aksar yahi hota hai
adami ka hai ajakal hal ek sahmi si chah ho jaise
adami ka hai ajakal hal ek sahmi si chah ho jaise
aur log yu chhup ke pyar karte hai ki 
pyar karna gunah ho jaise
chori ki mohabbat me aksar yahi hota hai

yu to hansate huye ladako ko bhi gam hota hai
kachchi umro me magar tajurba kam hota hai
chori ki mohabbat me aksar yahi hota hai
chori ki mohabbat me aksar yahi hota hai
daravaze se jate hai
daravaze se jate hai khidki se nikalte hai
daravaze se jate hai khidki se nikalte hai
daravaze se jate hai khidki se nikalte hai

jis din se hui shadi ye haal hamara hai
jis din se hui shadi ye haal hamara hai
jis din se hui shadi ye haal hamara hai
haldi se darate hai 
haldi se darate hai mehadi se ghabrate hai
haldi se darate hai mehadi se ghaarate hai
ummid e vafa rakhe kya unase bhala koi
na jikr kijiye meri ada ke bare me
aur suna hai vo bhi muhabbat ka shauq rakhne lage
jinhe khabar hi nahi vafa ke bare me
ummid e vafa rakhe 

kapdo ki tarah na jo chehare badalte hai
dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
dono hi mohabbat ke jazbat me jalte hai
vo barf pe chalte hai ham aag pe chalte hai
vo barf pe chalte hai ham aag pe chalte hai

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..