कहते हे माँ से बढकर इस दुनिया में कोई नहीं. मानवता की सबसे बड़ी मिशाल हे माँ. लेकिन जब आप इस खबर को पढेंगे तो कहेंगे की एक माँ ऐसा भी कर सकती हे. अपनी ही बच्ची के साथ जानवरों जैसा बर्ताव.

यह कहानी हे मलेशिया के कुआलालपूर में रहने वाली 8 साल की लड़की की, जिसको स्कूल से भागने पर उसकी माँ ने चैन के पुल से बांध दिया. जब जाकर लोगों ने देखा तो एक छोटी बच्ची थी, जो चैन से बंधी अपना अंगूठा चूस रही थी.


बच्ची के दायें हाथ और पैर में चैन लिपटी थी और वो दुसरे हाथ से अंगूठे को चूस रही थी और उसी हाथ से अपने आंसू भी पोंछ रही थी. उसको वंहा बांधे हुए घंटो बीत चुके थे. 

यह भी पढ़े ट्रिक्स प्रश्न-उत्तर याद करने की

लोगो ने उसे निकलने की कोसिस की तो वंहा दो बड़े-बड़े ताले लगे हुए थे. फिर लोगों ने पुलिस को बुला लिया. आस-पास के लोगों ने पुलिस से यह आश्वासन लिया की आगे ऐसा ना हो और फिर उसकी माँ से सवाल जवाब करके छोड़ दिया.

क्या एक माँ इतनी निर्दयी हो सकती हे की अपनी ही बच्ची को जानवरों की तरह बाँध दे. हमने सुना हे की पूत भले ही कपूत हो जाए लेकिन माँ कभी कुमाता नहीं होती. पर ऐसी माँ ने तो माँ शब्द को शर्मशार कर दिया.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..