बारिश के मोसम में मोसमी बिमारियों का आना स्वभाविक हे. बारिश के मोसम में आये बुखार को नार्मल ना समझे. यह बाद में टायफाइड जैसे गंभीर रोग का कारण बन सकता हे. बुखार का अगर सही उपचार ना कराये तो यह बढ़ जाता हे और लम्बे समय तक रहने से यह टायफाइड जैसे गंभीर रोग का कारण बन सकता हे. यह एक प्रकार का बेक्टीरियल संक्रमण हे जो दूषित पानी और दूषित भोजन से फेलता हे. आज की इस पोस्ट में, हम बुखार के लक्षण और उस से बचाव के उपाय के बारे में जानेंगे.

बुखार के लक्षण
1. लम्बे समय तक बुखार आना और रुक-रुक कर बुखार आना.

2. सिरदर्द, कमजोरी, उलटी आदि.

अगर सही समय पर नहीं दिखाया गया तो यह गंभीर रोग का कारन बन सकता हे और बाद में लीवर सम्बधी बीमारियाँ भी पैदा कर सकता हे.

बुखार से बचाव के उपाय
1. हाथ और पैर हमेशा साफ़ रखे.

2. पानी उबालकर और छानकर पियें.

3. खाना बनाने में भी साफ़ पानी का उपयोग करें.

4. मसालेदार और तेलिय खाने से बचें.

5. घर के बहार फास्टफूड और खुला खाने से बचें.

6. सावधानी के रुपे में टायफाइड का टिका भी लगवा सकते हे.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..