थाइरॉइड को साइलेंट किलर माना जाता है क्योंकि इस बीमारी के लक्षण बहुत धीरे-धीरे पता चलते हैं ! दरअसल थाइरॉइड हमारी बॉडी में पाई जाने वाली एंडोक्राइन ग्लैंड में से एक है..! गले में मौजूद तितली जैसे आकार वाली यह ग्लैंड थायरॉक्सिन हॉर्मोन बनाती है जो हमारी बॉडी की ऊर्जा खर्च करने की क्षमता और कई फंक्शन्स पर असर डालता है !
थाइरॉइड के घरेलू उपाय
उपाय नम्बर 1 - काली मिर्च से वजन और हाइपो-थायरॉयड दोनो को ही कन्ट्रोल करता है। क्यों और कैसे.? पिपेराईन, एक खास रसायन है जो काली मिर्च में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। ये कमाल का फ़ैट बर्नर है~ वसा के विघटन के लिए खासम-खास..!

अक्सर महिलाओं में थायरॉक्सिन लेवल कम होने से तेजी से वजन बढ़ता है और पेपेराईन इस समस्या से छुटकारा दिला सकता है..! जिन्हें हाईपोथायरॉइड की समस्या है, उन्हें सिर्फ 7 काली मिर्च कुचलकर 15 दिनों तक रोज सुबह एक ही बार में एक साथ खा लें, सकारात्मक परिणाम आना तय और निश्चित है..!

उपाय नम्बर 2 - 25 ग्राम शुद्ध दालचीनी लें यह जितनी तीखी हो उतना ही अच्छा रहेगा..! इसे पीस कर चूर्ण बना लें और एक चुटकी चूर्ण प्याज रस में मिलाकर सेवन करें.! यह प्रयोग बासी मुंह सिर्फ 21 दिन करें..! 21 दिन सेवन से थाइरोइड सामान्य हो जाएगा और फिर कभी नहीं बढ़ेगा..! 3 महीने बाद इस प्रयोग को दोहराइए, अचूक लाभ होगा.!

जिसने लगन व विश्वास के साथ कर लिया, समझो वो व्यक्ति जिन्दगी भर दवा खाने से बच गया..! फिर क्या, शुरू हो जाओ और स्वस्थ एवम् आरोग्य जीवन जियो।

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..