मासिक धर्म स्त्रियों में होने वाला एक प्राक्रतिक तत्व हे. लेकिन मासिक धर्म से संबधित बहुत सी परेशानियां हैं। जिनसे कम उम्र की महिला से लेकर अधिक उम्र की महिलाओं को जूझना पड़ता है। मासिक धर्म में कम रक्‍त स्राव हो तो दिक्‍कत, अधिक हो तो दिक्‍कत. समझ में ही नहीं आता कि क्‍या करें?? मासिक धर्म के इन उतार चढ़ावों का महिलाओं की सेहत पर सीधा असर पड़ता है. कमजोरी, चिड़चिड़ा पन तो आम बात है. कभी कभी पीरियड के दोरान दर्द भी रहता हे.

इन उपायों से मिल सकती हे मासिक धर्म में राहत
1. दर्द से बचने के लिए 8–10 बादाम रात में पानी में भिगोकर रख दें। सुबह छिलका उतारकर खाली पेट सेवन करें।

2. मासिक धर्म के दौरान कमर में दर्द हो तो बरगद का दूध निकालकर कमर पर सुबह शाम मलें।

3. तीन ग्राम कुटी हुई अदरक, 3–4 काली मिर्च का चूर्ण और एक बड़ी इलायची का चूर्णं, काली चाय, दूध व पानी एक साथ मिलाकर अच्‍छी तरह पकाएं। पानी आधा रह जाने पर उतार लें और कुनकुना ही पिएं। आपको माहवारी के दर्द में आराम मिलेगा।

4. पीरिएड से संबधित कोई भी दिक्‍कत हो तो गरम पानी का सेवन अच्‍छा रहता है। माहवारी शुरू होने के दस दिन पहले से गरम पानी पीना शुरू कर दें।

5. गर्म दूध के साथ 5–6 ग्राम अजवायन खाने से लाभ होता है।

6. दालचीनी का चूर्णं 2–3 ग्राम पानी के साथ खाने से पीरिएड साफ होता है और शा‍रीरिक पीड़ा भी दूर होती है।

7. खाना खाने के समय पहले निवाले में 2–3 ग्राम राई पीसकर खाने से माहवारी की सभी परेशानियां दूर होती हैं।

8. यदि पीरिएड नियमित न हो तो दो सौ ग्राम गाजर का रस सुबह शाम पानी के साथ पीने से पीरिएड नियमित हो जाता है।

9. दस ग्राम तिल को 200 ग्राम पानी में उबालें। फिर एक चौथाई रह जाने पर उसे उतारकर, उसमें गुड़ मिलाकर पिएं। पीरिएड नियमित होगा और दर्द भी दूर हो जाएगा।

10. गुड़ के साथ काले तिल को पानी में उबालकर दिन में 2–3 बार पीने से मासिक धर्म खुल कर होता है।

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..