क्या आप आज कल ये सोच रहे है की बिज़नेस (vyapar) कैसे करे? इनफॅक्ट दोस्तों आज की महँगाई की दुनिया मे हर कोई यही सवाल पूछ रहा है की कम पैसे से बिज़्नेस कैसे करते है? या कम पैसो से बिज़्नेस कैसे करे? क्या आप सोच सकते है की अपने बच्चपन मे दूध बेचने वाला, घर घर अख़बार फेकने वाला ओर होटेल मे वेटर का काम करने वाला अपने लाइफ मे क्या बन सकता है???.. वो लखो लोगो को नोकरी पर रख सकता है, किसी इंडस्ट्री को पूरी तरह से बदल सकता है, वो दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बना सकता है.. ओर खुद बन सकता है अमेरिका’स रिचेस्ट मान. मैं बात कर रहा दुनिया की सबसे बड़ी रीटेल कंपनी “वालमार्ट” को बनाने वाला “सम वॉलटन” की. “सम वॉलटन” (1918-1992) को मॉडर्न रीटेल का जनक भी कहा जाता है, इन्ही का बिज़्नेस मॉडेल फॉलो करते हुए आज बिग बेज़ार, मोरे, रिलाइयन्स फ्रेश जैसे स्टोर्स भारत मे भी खुल गये है. 1982 से 1988 तक अमेरिका के सबसे अमीर इंसान थे ओर आज के तारीक़ मे भी “वालमार्ट” हमेशा टॉप 10 कंपनीज़ मे रहती है ओर अरबो डॉलर का बिज़्नेस करती है. अब दोस्तो आप ही सोचिए अगर इतनी बड़ी अचिएव्मेंट वाला इंसान आपको बिज़्नेस करने की क्वालिटी बताए तो में बाता तो दुगा ही. इसलिए आज हम बात करेंगे ‘Business Kaise Kare‘ टॉपिक पर.

How to start new business ideas in hindi with low investment
Smart Business Man Ki Top 15 Qualities आज के कॉंपिटेटिव वर्ल्ड मे अपना बिज़्नेस स्टार्ट करना और सेट करना एक चॅलेंज है. अपने लिए कस्टमर बनाना तो बहुत ही मुस्किल है. लोग बोलते है बिज़्नेस संभालने के लिए मॅनेज्मेंट स्किल, कोमुनिकत्िओं स्किल्स और ना जाने क्या क्या चाहिए. लेकिन फ्रेंड्स ऐसा कुछ न्ही है. बिज़्नेस को स्टार्ट करने और सेट करने के लिए कुछ कामन रूल्स होते है. ओर आज हाउFn पर मैं उन्ही के 10 रूल्स शेर करने जा रहे है. पढ़ते है बिज़्नेस कैसे करे के टॉप 10 रूल्स… (यहाँ क्लिक कर जाने सुख-समृद्धि बनाए रखने के 5 चीजें जरूर रखे vastu tips)

आपको अपने बिज़्नेस मे किसी भी ओर इंसान से ज़्यादा यकीन होना चाहिए. अगर इंसान मे अपने काम के लिए पॅशन है तो वो अपने अंडर की सारी खमिो को पार पा लेगा. मुझे नही टा की आदमी पॅशन के साथ पैदा होता है या वो इसे डेवेलप कर सकता है पर मैं इतना जनता हूँ की आपको इसकी ज़रूरत पड़ती है. रिमेंबर सपने वो होते है जो आपको रात को सोने ना दे. अगर आप अपने काम से प्यार करते है तो, तो आप हर रोज उसे बेस्ट पासिबल वे मे करना चाहेंगे, ओर जल्दी ही आपके साथ काम करने वाले भी आपके साथ होंगे.

प्रॉफिट को काम करने वालो मे बताइए ओर उन्हे पार्ट्नर की तरह ट्रीट करे

एंप्लायीस आपके लिए काम करते है लेकिन ये मत भूलिए की वो आपका ही काम कर रहे है, अगर वो नही होंगे तो आपके लिए सन काम माँगे करना मुस्किल ही न्ही, ना मुमकिन हो जाएगा. सो ऑल्वेज़ रेस्पेक्ट युवर एंप्लायीस आंड ट्रीट देम गुड. बदले मे एंप्लायीस भी आपको आस आ पार्ट्नर ट्रीट करेंगे ओर तब आप जितना सोच नही सकते उससे भी अच्छा काम कर पाएँगे. आप चाहे तो कंपनी पर अपना कंट्रोल बनाए रखिए मगर एक एंप्लायी के रूप मे लेड करिए. अपने साथियो को कंपनी के स्टॉक्स खरीदने के लिए एनकरेज करिए ओर रिटाइयर्मेंट के टाइम उन्हे डिसकाउनटेड स्टॉक्स दीजिए. ऑल्वेज़ ट्राइ की आपका और एंप्लायीस का रीलेशन हेल्ती रहे, वो आपके साथ आपनी खुशिया और दुख दोनो शेर कर सके.

सिर्फ़ पैसा ओर ओनरशिप काफ़ी नही है. हर रोज़ नये इनोवेटिव तरीके से अपने पार्ट्नर्स को मोटीवेट ओर चॅलेंज कीजिए. बड़े लक्ष्या टारगेट कीजिए, कॉंपिटेशन को बड़वा दीजिए… अगर अट्मॉस्फियर फीका पद रहा हो तो 1 मॅनेजर की जॉब दूसरे से स्विच कीजिए ओर उन्हे बेहतर करने के लिए एनकरेज कीजिए. अपने आपको बहुत प्रिडिक्टबल मत बनाए, लोगो को गेस करने दीजिए की आपकी अगली ट्रिक क्या होगी.

अपने पार्ट्नर्स को हर संभव चीज़ कम्यूनिकेट कीजिए

ऐसा करने से वो बिज़्नेस को बेहतर साँझ पाएँगे ओर जितना ज़्यादा वो समझेंगे उतनी ज़्यादा केर करेंगे. ओर जब वो केर करने लगेंगे तब उन्हे कोई रोक नही सकता. अगर आप अपने असोसीयेट्स से बात छुपाएँगे तो वो देर सवेर साँझ जाएँगे की आप उनको पार्ट्नर नही कन्सिडर करते है. सोचना शक्ति है, अपने अस्सोसितेस को एमपवर करके आपको जो फ़ायदा होता है वो कॉंपिटिटर को बात का टा चलने से होने वाले नुकसान से कही ज़्यादा है.

सॅलरी ओर शेर देने से आपको एक तरह की लोयलिटी मिलेगी, लेकिन हर कोई अपने काम की तारीफ सुनना चाहता है. हम अक्सर अपनी तारीफ सुनना चाहते है, ओर ख़ासतोर पर तब जब हम अपने किसी काम पर प्राउड फील कर रहे हो. सही टाइम पर, सही वर्ड्स के साथ की गई सच्ची तारीफ का कोई विकल्प (चाय्स) नही है. ये बिल्कुल फ्री होते हुए भी एक खजाने के ब्राबर होती है. सो, आचे काम के लिए अपने एंप्लायीस और असोसीयेट्स को हुमेशा कॉंप्लिमेंट दे. कॉंप्लिमेंट एक मॅजिकल वर्ड है जो हुमारे साथ काम करने वालो की एफ्फीसेंसी को निखरता है.

सेलेब्रेट युवर सक्सेस

जिस तरह अपनी ग़लतिओं से सीखने की ज़रूरत होती है, वैसे ही उससे कही जाड़ा है अपनी सक्सेस को सेलेब्रेट करना. अपने एंप्लायीस के साथ छोटी छोटी खुशिया सेलेब्रेट करे जैस्से किसी ने न्यू कार ली सेलेबरते इट, किसी के घर बेबी हुआ सेलेब्रेट इट, किसी की घर शादी है सेलेब्रेट इट एट्सेटरा. इससे आपके एंप्लायीस आपको अपना मानेगे और आपके लिए फॅमिली मेंबर्ज़ की तरह काम करेंगे. अपनी कामयाबी को सेलेब्रेट करने के लिए वॉल स्ट्रीट पर मत नाचिए. ये ऑलरेडी किया जा चुका है. सो कुछ नया सोचिए, ये सब जितना हम सोचते है उससे कही ज़्यादा ज़रूरी है ओर मस्ती से भरा हुआ भी ओर इससे कॉंपिटिटर भी बुढ़ू बन जाते है.

अपनी कंपनी मे हर किसी को सुनिए ओर ऐसा सल्यूशन निकालिए की वो आपस मे बात करे

जो सामने बेत्ते है – वो जो कस्टमर से बात करते है – सिर्फ़ वही जानते है की वहाँ क्या चल रहा है. इसलिए ये जानने की कोशिश कीजिए की वो क्या जानते है. टोटल क्वालिटी बस यही है. अपनी इन्स्टिट्यूशन मे नीचे तक रेस्पॉन्सिबिलिटी पुश करने के लिए ओर नयी आइडियास को सामने लाने के लिए ज़रूरी है की आप ये जानने की कोशिश करे की आप असोसीयेट क्या कहना चाहते है.

अपने कस्टमर्स को उमीद से ज़्यादा दीजिए

कस्टमर हर कोई चाहता है और ज़यादा से ज़यादा चाहता है. ज़यादा कस्टमर्स के लिए आपको अपनी सर्विस अची करनी पड़ेगी. अपने कस्टमर को कस्ट( प्राब्लम) से मरने ना दे. हुमेशा कस्टमर्स के टेस्ट आंड प्रिफरेन्सस का ढयन रखे. अगर आप ऐसा करेंगे तो वो बार बार वापस आएँगे. उन्हे वो दीजिए जो वो चाहते है ओर फिर उससे तोड़ा ज़्यादा. उन्हे टा चलना चाहिए की आप उनको अप्रीशियेट करते है. अपनी सभी मिस्टेक्स को आक्सेप्ट करे ओर एक्सक्यूस मत दीजिए बल्कि माफी माँगे. आप जो कुछ भी करते है उसके पीछे खड़े रहिए. आज तक दो सबसे ज़रूरी वर्ड जो मैने पहले वॉल-मार्ट साइन के नीचे लिखे थे: “सॅटिस्फॅक्षन गॅरेंटीड”. वो आज भी ऐसे ही लिखे हुए है ओर उनकी वजह से इतना सब कुछ हो पाया.

अपने खर्चो को कॉंपिटेशन से बेहतर ढंग से कंट्रोल कीजिए

यही पर आप कॉंपिटेटिव अड्वॅंटेज पा सकते है. रेग्युलर्ली 25 सालो से – वॉल मार्ट के देश के सबसे बड़े रीटेलर बनने से पहले – हम इस इंडस्ट्री मे लोवेस्ट एक्सपेन्स तो सेल्स रॅशन मे नो. 1 रहे है, आप बहुत सारी मिस्टेक्स कर के भी दुबारा उबर सकते है अगर आपको ऑपरेशन्स एफीशियेंट हो. या आप बहुत ब्रिलियेंट होते हुए भी बिज़्नेस से बाहर हो सकते है अगर आप बहुत इनीफीशियेंट हो.

दोस्तों आखिरी मे मैं यही कहना चाहेंगे की बिज़्नेस को कामयाब बनाने के लिए ह्यूम आपको एक रिचेस्ट पर्सन का एग्ज़ॅंपल दे के ये आर्टिकल आपके सामने रखा है. अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो लीके आंड शेर करना ना भूले. अपने व्यूस ओर ओपीनियन देने के लिए आप कॉमेंट भी कर सकते है. तनकक्ष फॉर विज़िटिंग और साइट आंड बे हॅपी..

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..