heavy blood flow period how to lighten blood flow on period period blood flow chart period blood flow lighter how to slow period blood flow period without blood flow blood flow cycle menstrual blood flow 
पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग की समस्या का कारण हार्मोन का असंतुलन है। मासिक चक्र के दौरान शारीरिक अवस्था में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन में नाजुक संतुलन बना रहता है। ये हार्मोन्स यूटरीन लाइनिंग (गर्भाशय की ऊपर परत) के बनने और झड़ने में संतुलन बनाए रखने का का काम करते है, जब यह संतुलन खराब होता है, किसी कारण से घटता-बढ़ता है तो वजन बढ़ने, तनावग्रस्त होने के कारण भी ज्यादा ब्लीडिंग होती है।

कई बार थायराइड की बीमारी (हाइपोथायराइडिज्म) की वजह से भी ज्यादा रक्तस्त्राव होता है। पॉलिप्स (असामान्य रूप से गर्भाशय की अंदरूनी दीवार में चिपके टिश्यू), ओवेरियन सिस्ट, फाइब्राइड (बिनाइन ट्यूमर) का भी पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग पर असर होता है। एन्डोमीट्रीओसिस (यदि यूटरीन के टिश्यू यूटरीन की बाहरी परत में विकसित हो) एन्डोमेट्रियल हाइपरप्लेशिया (गर्भाशय की ऊपरी परत का मोटा होना), पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिसीज (प्रजनन अंगों में इंफेक्शन) की वजह से भी हो सकता है। बहुत काम मामलों में प्री कैंसर के लक्षण, यूटेरस या सर्विक्स कैंसर के कारण भी ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..