ट्रेन की करंट रनिंग लोकेशन के लिए साइट रेल इन्फो स्टेटस लाइव स्टेटस train live running status - Top.HowFN.com

ट्रेन की करंट रनिंग लोकेशन के लिए साइट रेल इन्फो स्टेटस लाइव स्टेटस train live running status

  ट्रेन की करंट रनिंग लोकेशन 
नॉर्दन रेलवे के सीपीआरओ के अनुसार 1 अप्रैल से कुछ नए नियम भी लागू हो रहे हैं जिस तरह अभी बर्थ वाले क्लास में अपग्रेडेशन की फ्री सुविधा मुसाफिरों को मिल रही है, वही सुविधा सिटिंग क्लास में भी शुरू की जाएगी।

रेलवे का दावा है कि सेकंड सिटिंग (2S) के टिकटधारकों को स्पेस रहने पर चेयरकार (CC) में अपग्रेड कर दिया जाए। इसी तरह चेयर कार के मुसाफिर अपग्रेड होकर एग्जेक्युटिव क्लास में जा सकेंगे। 1 अप्रैल से एक और बदलाव हो जाएगा। इसके तहत ट्रेन का चार्ट तैयार होने तक उस ट्रेन में तय कोटे की जितनी भी सीटें खाली रह जाएंगी, उनसे जनरल वेटिंग लिस्ट पहले क्लियर की जाएगी। इसके बाद भी सीटें बच जाती हैं तो तत्काल की सीटें क्लियर की जाएंगी।
http://enquiry.indianrail.gov.in/ntes/
SMS अलर्ट

यह योजना हाल ही में शुरू की गई है। इसके तहत टिकट रिजर्वेशन के बाद स्टेटस बदलने पर यानी वेटिंग से आरएसी, आरएसी से कन्फर्म, वेटिंग से कन्फर्म या अपग्रेडेशन जैसी सभी जानकारियां आपको मोबाइल पर मिल जाएंगी। इसके लिए आपको कहीं कॉल करने या काउंटर पर जाने की जरूरत नहीं है। ट्रेन का रिजर्वेशन चार्ट बनने के बाद बर्थ नंबर, बोगी नंबर या आरएसी नंबर का पता आपको एसएमएस से मिल जाएगा। इतना ही नहीं, यदि आपकी सीट में कुछ बदलाव हुआ है जैसे अपग्रेडेशन आदि तो इसकी जानकारी भी एसएमएस के जरिए मिल जाएगी। एसी फर्स्ट क्लास की सीटों की जानकारी लिस्ट बनते ही एसएमएस से मिल जाएगी।

रेल की हमसफर साइट्स

- indianrail.gov.in

क्या है खासः

- यह रेलवे की एक ऐसी साइट है, जो दूसरी साइट्स से भी आपको कनेक्ट कर देती है।

- यहां पीएनआर स्टेटस चेक करने के साथ ही आप जिस ट्रेन में रिजर्वेशन कराना चाहते हैं, उसमें सीटों की उपलब्धता भी देख सकते हैं।

- अगर आप रेलवे के नियमों को जानना चाहते हैं तो वे भी यहां उपलब्ध हैं।

कैसे करें इस्तेमालः

- आप जैसे ही यह पेज खोलेंगे लेफ्ट साइड में कई लिंक मिलेंगे।

- इसके लेफ्ट में Information सेक्शन में rules मिलेगा। इस पर क्लिक कर आप रिजर्वेशन और रिफंड समेत दूसरे नियमों की जानकारी ले सकते हैं।

- यहीं पर Current Booking Availability का भी ऑप्शन है, जहां क्लिक कर आप देश भर में किसी भी स्टेशन पर करंट कोटे के तहत खाली सीटों का स्टेटस पता कर सकते हैं। चार्ट बन जाने के बाद खाली बची सीटों को करंट कोटा कहते हैं।

- इसके टॉप लेफ्ट में Services का सेक्शन है जिसमें National Train Enquiry System का लिंक मिलेगा। यहां से आप किसी भी ट्रेन का रनिंग स्टेटस जान सकते हैं। टॉप राइट साइड पर Internet Reservation पर क्लिक कर आप ऑनलाइन रिजर्वेशन की साइट पर जा सकते हैं। यहां पीएनआर स्टेटस चेक करने की भी सुविधा है।

- इस लिंक पर क्लिक करने के बाद जो पेज खुलेगा, उसमें Source Station मिलेगा। इसमें आप अपने स्टेशन का नाम डालकर Get Availability पर क्लिक कर दें। यदि उस वक्त तक चार्ट बनने के बाद उस स्टेशन पर किसी ट्रेन में सीटें रिजर्व होने से बाकी रह गई हैं तो उनका स्टेटस आपको मिल जाएगा।

- करंट रिजर्वेशन उन सीटों का होता है, जो चार्ट बनने के बाद भी खाली रह जाती हैं। इनका रिजर्वेशन करंट काउंटर से होता है और इन्हें ऑनलाइन बुक नहीं कराया जा सकता। यह काउंटर 24 घंटे खुला रहता है। यहां हर उस ट्रेन का करंट टिकट मिलता है जिसका चार्ट बन (अमूमन ट्रेन खुलने के 4 घंटे पहले) चुका है। ट्रेन खुलने तक टिकट खरीदे जा सकते हैं।

तत्काल और करंट का अंतर

तत्काल और करंट में अंतर यह है कि तत्काल टिकटों के लिए जहां अडिशनल चार्ज देना पड़ता है, वहीं करंट सीटों का रिजर्वेशन नॉर्मल फेयर पर ही होता है।

- irctc.co.in

क्या है खासः

- अगर आप ऑनलाइन टिकट बुक कराना चाहते हैं तो आपको इस साइट पर जाना होगा।

- यहां लॉगइन क्रिएट करने के बाद आप ऑनलाइन टिकट रिजर्व करा सकते हैं। यहां आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग से पेमेंट कर सकते हैं।

- अगर आप नहीं चाहते कि नेट बैंकिंग या किसी कार्ड से पेमेंट करें तो आप आईआरसीटीसी की ewallet स्कीम में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

- ऑनलाइन बुक कराए गए टिकट ऑनलाइन ही कैंसल हो सकते हैं। यहां से आप करंट छोड़कर सभी तरह के टिकट बुक करा सकते हैं। रियायती टिकट भी बुक कराए जा सकते हैं।

क्या है eWallet

eWallet रेलवे में आपका वह ऑनलाइन अकाउंट है जिसमें अधिकतम 10 हजार रुपए रख सकते हैं। फायदा यह होगा कि जब आप टिकट बुक कराते हैं तो आपको पेमेंट के लिए किसी बैंकिंग गेटवे का इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं होगी और इससे आपका वक्त बचेगा। इसमें रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपको irctc.co.in पर लॉगइन करना होगा। जहां टीडीआर और रिफंड के लिंक हैं, उसके ठीक नीचे eWallet के लिए रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन मिलेगा। जैसे ही आप इसे क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खुलेगा, जिसमें आपके पैन कार्ड का नंबर और कार्डधारक का फर्स्ट नेम पूछा जाएगा। इसे भरने के बाद पासवर्ड क्रिएट करने और फिर रजिस्ट्रेशन चार्ज देने का ऑप्शन मिलेगा। रजिस्ट्रेशन चार्ज 250 रुपए है। यहां आप क्रेडिट-डेबिट कार्ड आदि से पेमेंट कर सकते हैं।

- trainenquiry.com

यह नैशनल ट्रेन इन्क्वायरी सिस्टम है, जहां से आप रनिंग ट्रेनों का स्टेटस पता कर सकते हैं।

क्या है खास

- साइट खुलते ही आपके सामने spot your train, station, trains between stations, trains cancelled, rescheduled और diverted के ऑप्शन मिलेंगे। इन्हें क्लिक कर मनचाही जानकारी ले सकते हैं।

spot your train

क्या है खासः

- ट्रेन की करंट लोकेशन जानने के लिए यह बेहतरीन साइट है।

- अगर आपको किसी को रिसीव करने या स्टेशन पर ट्रेन पकड़वाने जाना है तो इससे जानकारी लेकर आप कीमती वक्त बचा सकते हैं।

- इसके अलावा इस साइट पर कैंसल, रि-शेड्यूल और जिन ट्रेनों का रूट डायवर्जन हुआ है, उनकी भी जानकारी ली जा सकती है।

कैसे करें इस्तेमाल

- इस पर क्लिक करेंगे तो आपके सामने जो पेज खुलेगा, उसमें Enter train name/no. मिलेगा।

- इसके सामने बने बॉक्स में ट्रेन का नाम या नंबर लिखें। फिर Journey/Boarding/Arrival station में जिस स्टेशन पर आप ट्रेन की पोजिशन जानना चाहते हैं, उस स्टेशन का नाम लिखें।

- फिर अगले कॉलम Journey/Boarding/Arrival date में तारीख भी डालें। इसके बाद आप यह जान सकेंगे कि आपने जिस स्टेशन की बाबत जानकारी मांगी है, वहां ट्रेन राइट टाइम आ रही है या लेट है। यहां स्टेशन पहुंचने में लगने वाले अनुमानित वक्त का भी पता चल सकता है।

- जो नया पेज खुलेगा, उसमें राइट साइड में नीचे की ओर view full running का ऑप्शन मिलेगा। यहां से आप ट्रेन ने जितनी दूर का सफर किया है, वहां किस स्टेशन पर कितनी लेट पहुंची, यह भी जान सकते हैं।

- station पर क्लिक कर आप किन्हीं दो स्टेशनों के बीच चलने वाली ट्रेनों, उनकी टाइमिंग और उनकी पोजिशन की जानकारी ले सकते हैं।

- जैसे ही नया पेज खुलेगा, उसमें Enter station to get trains में आप जहां से सफर करना चाहते हैं उस स्टेशन का नाम डाल दीजिए।

- नेक्स्ट कॉलम Going to (Optional) में चाहें तो स्टेशन का नाम लिखें या न लिखें। आपको वहां 2 से 8 घंटे के बीच छूटने या गुजरने वाली सभी ट्रेनों का पता चल जाएगा।

- train between stations पर क्लिक कर आप किन्ही भी दो स्टेशनों के बीच चलने वाली हर ट्रेन की जानकारी ले सकते हैं। यहां from और to के आगे बॉक्स भरने के बाद go पर क्लिक कर दें। पल भर में आपके सवाल का जवाब मिल जाएगा।

indiarailinfo.com

यह हालांकि भारतीय रेलवे की ऑफिशल वेबसाइट नहीं है, लेकिन इस पर कई जानकारी काम की हैं। मसलन, यहां यह पता किया जा सकता है कि एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन तक पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनें वाया किधर से जाती हैं और उनका किराया क्या है।

facebook

फेसबुक पर आप Delhi Division Northern Railway का पेज मौजूद है। About पर जाकर जब http://122.252.248.147:8084/MultiStnTAD/ पर क्लिक करेंगे तब आप नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और हजरत निजामुद्दीन स्टेशनों पर ट्रेनों के अराइवल-डिपार्चर की जानकारी के साथ ही यह भी जान सकते हैं कि ट्रेन किस प्लैटफॉर्म पर आएगी या रवाना होगी।

इसके नीचे एक और लिंक है http://122.252.248.145:8182/RW इस पर क्लिक कर दिल्ली के पांच स्टेशनों नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली, हजरत निजामुद्दीन, सराय रोहिल्ला और आनंद विहार से खुलने वाली किसी भी ट्रेन में चार्ट तैयार होने के बाद कितनी सीटें बची हैं, की जानकारी ली जा सकती है।

टिकट रिफंड के नियम -कई बार किसी कारणवश यात्रा टालनी या रद्द करनी पड़ती है ऐसे में रिफंड के नियम जानना बहुत जरूरी है। डालते हैं इन पर एक नजरः

कन्फर्म टिकटः

डिपार्चर टाइम से 48 घंटे पहले तक
एसी फर्स्ट और इग्जेक्युटिव क्लासः 120 रुपए
एसी सेकंड और फर्स्ट क्लासः 100 रुपए
थर्ड एसी और इकॉनमी और चेयरकारः 90 रुपए
स्लीपरः 60 रुपए
सेकंड सीटिंगः 30 रुपए
(रेलवे इतना चार्ज प्रति पैसेंजर काटेगा)
डिपार्चर टाइम से 48 से 6 घंटे पहले तक – 25 फीसदी रकम कट जाएगी
डिपार्चर टाइम से घंटे पहले से लेकर 2 घंटे बाद तक – 50 फीसदी रकम कटेगी
डिपार्चर टाइम के 2 घंटे बाद – कोई रकम रिफंड नहीं होगी, इससे पहले अगर रिफंड चाहते हैं तो आपको टीडीआर भरना पड़ेगा।

वेटिंग और आरएसी टिकटः

वेटिंग और आरएसी टिकटों को रिफंड करने पर सिर्फ क्लर्केज चार्जेज कटते हैं। आरएसी और वेटिंग के टिकट पर नॉन एसी में 30 रुपए प्रति पैसेंजर और एसी में 35 रुपए प्रति पैसेंजर कटते हैं। अगर ई-टिकट है तो वेटिंग खुद-ब-खुद कैंसल हो जाती है। आरएसी होने पर ट्रेन डिपार्चर टाइम के 3 घंटे बाद तक टीडीआर (टिकट डिपॉजिट रिसिप्ट) फाइल की जा सकती है।

क्या है TDR

ट्रेन छूट जाने पर आप टिकट को एक फॉर्म भर कर (ऑनलाइन और ऑफलाइन) स्टेशन पर जमा कर सकते हैं। रेलवे नियमानुसार 60 दिनों में रिफंड करेगी।

रिजर्वेशन के लिहाज से इनका है अंदाज अलग - अमूमन ट्रेनों में रिजर्वेशन 60 दिन पहले कराया जा सकता है लेकिन कुछ खास ट्रेनें हैं, जिनके रिजर्वेशन नियम अलग हैं। नॉर्दर्न रेलवे की इन चंद ट्रेनों में रिजर्वेशन सिर्फ 30 दिन पहले ही होता है।

12419/12420 गोमती एक्सप्रेस

12279/12280 ताज एक्सप्रेस

14095/14096 हिमालयन क्वीन एक्सप्रेस

12497/12498 शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस

14721/14722 नई दिल्ली-श्री गंगानगर इंटरसिटी एक्सप्रेस

14731/14732 नई दिल्ली-बठिंडा एक्सप्रेस

14211/14212 आगरा इंटरसिटी एक्सप्रेस

12459/12460 अमृतसर-इंटरसिटी एक्सप्रेस

14681/14682 नई दिल्ली-जालंधर एक्सप्रेस

14043/14044 दिल्ली-कोटद्वार गढ़वाल एक्सप्रेस

14209/14210 लखनऊ-इलाहाबाद इंटरसिटी एक्सप्रेस

14215/14216 गंगा-गोमती लखनऊ-इलाहाबाद एक्सप्रेस

14203/14204 वाराणसी-लखनऊ इंटरसिटी एक्सप्रेस

14315/14316 बरेली-नई दिल्ली इंटरसिटी एक्सप्रेस

14519/14520 दिल्ली-बठिंडा किसान एक्सप्रेस

14525/14526 अंबाला-श्रीगंगानगर इंटरसिटी एक्सप्रेस

14711/14712 हरिद्वार-श्री गंगानगर एक्सप्रेस

इसके अलावा ट्रेन नंबर 4001/4002 दिल्ली-अटारी लिंक एक्सप्रेस में रिजर्वेशन सिर्फ 15 दिन पहले ही कराया जा सकता है।

JTBS की सुविधा

जन साधारण टिकट बुकिंग सेवक का कॉन्सेप्ट टिकट काउंटरों से भीड़ कम करने के लिए बनाया गया है। यहां से आप प्लेटफॉर्म टिकट, अनारक्षित ट्रेन टिकट ले सकते हैं। साथ ही एमएसटी भी रिन्यू करा सकते हैं। इसके लिए आपको प्रति यात्री 1 रुपए का अतिरिक्त भुगतान करना पड़ता है। नॉर्दर्न रेलवे ने 55 स्टेशनों के लिए ऐसे 152 सेंटर खोले हैं। दिल्ली में कुछ जेटीबीएस स्टेशन के पास न होकर दूसरे इलाकों में भी हैं।

कन्फर्म टिकट का ट्रांसफर

आमतौर पर सीट या बर्थ जिस शख्स के नाम रिजर्व हो, वहीं शख्स उस टिकट पर जर्नी कर सकता है। नॉर्दन रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक महत्वपूर्ण स्टेशनों पर चीफ कमर्शल मैनेजर (रिजर्वेशन), असिस्टेंट कमर्शल मैनेजर (रिजर्वेशन) और चीफ रिजर्वेशन सुपरवाइजर को एप्लिकेशन देकर किसी दूसरे शख्स के नाम से नया टिकट जारी कराया जा सकता है।

किन हालात में होगा टिकट ट्रांसफर

- यदि कोई सरकारी कर्मचारी ऑन ड्यूटी हो और उसका अधिकारी गाड़ी के डिपार्चर से 24 घंटे पहले इस बाबत लिखित अनुरोध करे।

- कोई मुसाफिर अपना टिकट परिवार के सदस्यों यानी, अपने पैरंट्स, भाई, बहन, बेटा, पति या पत्नी के नाम पर ट्रांसफर कराना चाहे।

- यदि किसी मान्यता प्राप्त शैक्षिक संस्थान के स्टूडेंट ट्रेन से सफर करने वाले हों और वहां का चीफ डिपार्चर टाइम से 48 घंटे पहले रेलवे को सूचित करे। ऐसे में रिजर्व सीट किसी अन्य स्टूडेंट के नाम ट्रांसफर कर दी जाती है।

- यदि बारात जाने वाली हो और बारात का मुख्य आदमी (बुकिंग फॉर्म पर साइन करने वाला) 48 घंटे पहले यह रिक्वेस्ट करे तो बर्थ या सीट किसी अन्य शख्स के नाम अलॉट की जा सकती है।

- याद रखें कि ऐसी रिक्वेस्ट सिर्फ एक बार ही स्वीकार की जाती है।

मदद की घंटीः हेल्पलाइन

1322

नॉर्दर्न रेलवे की यह हेल्पलाइन पिछले महीने ही लॉन्च की गई है। दिल्ली और लखनऊ समेत 731 स्टेशनों पर यह सुविधा उपलब्ध है। अगर किसी के साथ कोई वारदात जैसे चोरी, उत्पीड़न या दुर्घटना हो तो इस नंबर पर मदद के लिए फोन कर सकता है। यह हेल्पलाइन 24 घंटे काम करती है।

011-23340000

यह आईआरसीटीसी का कस्टमर केयर नंबर है। अगर आईआरसीटीसी की सर्विसेज के बारे में कोई जानकारी चाहिए तो इस नबंर पर 24 घंटे फोन कर सकते हैं। मिसाल के तौर पर अगर आपको टिकट रिफंड का स्टेटस जानना है तो कॉल करके एनआर नंबर बताने पर इसकी जानकारी भी इस नंबर से मिल सकती है।

1800111321

रेलवे कैटरिंग को लेकर किसी तरह की शिकायत इस टोल फ्री नंबर पर की जा सकती है। इस नंबर पर पूरे देश से खाने में किसी भी कमी के मिलते शिकायत की जा सकती है। यह सर्विस सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक काम करती है।

9717630982

रेलवे की किसी भी सेवा में गड़बड़ी की शिकायत नॉर्दर्न रेलवे के इस नंबर पर एसएमएस के जरिए की जा सकती है। हालांकि आपको ध्यान रखना होगा कि एसएमएस 140 कैरेक्टर से अधिक हो। इस नंबर पर कॉल नहीं लगेगा।

पहचान में 10 का दम - इन 10 डॉक्यूमेंट्स को रेलवे तत्काल टिकट होने पर पहचान साबित करने के लिहाज से वैलिड मानता हैः

1 -वोटर कार्ड
2 -पासपोर्ट
3 -पैन कार्ड
4 -ड्राइविंग लाइसेंस
5 -सरकारी दफ्तरों के पहचान पत्र
6 -मान्यता प्राप्त स्कूल-कॉलेजों के स्टूडेंट के आई कार्ड
7 -नैशनलाइज्ड बैंक का फोटो वाला पासबुक
8 -फोटो वाला क्रेडिट कार्ड
9 -आधार कार्ड
10 -जिला प्रशासन, म्युनिसिपल बॉडी और पंचायत द्वारा जारी फोटो पहचान पत्र जिसमें सीरियल नंबर लिखा हो

(यदि आप स्लीपर या सेकंड सिटिंग क्लास में सफर कर रहे हैं तो फोटो वाला राशन कार्ड और पासबुक की अटेस्टेड कॉपी भी वैलिड होंगी)

0 Response to "ट्रेन की करंट रनिंग लोकेशन के लिए साइट रेल इन्फो स्टेटस लाइव स्टेटस train live running status"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel